रक्षा मंत्री से मुलाकात के बाद किसानों ने खोला दिल्ली-नोएडा बॉर्डर, 12 दिन से था बंद

किसान आंदोलन के चलते पिछले 12 दिनों से बंद चिल्ला बॉर्डर को शनिवार रात खोल दिया गया. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर किसानों की मुलाकात के बाद इस बॉर्डर पर आवाजाही फिर से शुरू हो गई है. अब दिल्ली से नोएडा आने-जाने वाले लोगों की परेशानी कुछ कम होगी.

रक्षा मंत्री से मुलाकात के बाद किसानों ने खोला दिल्ली-नोएडा बॉर्डर, 12 दिन से था बंद

नई दिल्ली: तीन कृषि कानूनों के विरोध में पिछले 12 दिनों से बंद दिल्ली-नोएडा बॉर्डर (चिल्ला बॉर्डर) को खोल दिया गया है. धरने पर बैठे किसानों ने शनिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) से उनके आवास पर मुलाकात की थी. जिसके बाद सहमति बनने पर किसानों ने बॉर्डर पर धरना खत्म कर दिया और उसे वापस आवाजाही के लिए खोल दिया.

जानकारी के अनुसार, बैठक में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) भी मौजूद थे. इस दौरान किसानों द्वारा रक्षा मंत्री के सामने 18 सूत्रीय मांगों को रखा गया था. मुख्य मांग किसान गठन आयोग की रही. मांगों में MSP का जिक्र नहीं है.

 

रविवार को हाईवे बंद करेगा भाकियू
वहीं भारतीय किसान यूनियन की पंजाब इकाई (Punjab BKU) ने दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग (Delhi-Jaipur Expressway) को शनिवार को बंद करने की चेतावनी दी थी. शीर्ष नेताओं के निर्देश के बावजूद स्थानीय नेता शनिवार को हाईवे को बंद करने नहीं पहुंचे थे. इस बात की जानकारी जब भारतीय किसान यूनियन पंजाब के महासचिव हरेंद्र सिंह लोखवाल को हुई तो उन्होंने रविवार को हाईवे बंद कराने की बात कही. अगर दिल्ली-जयपुर राजमार्ग बंद हुआ तो उत्तर भारत के राज्यों का देश के पश्चिमी और दक्षिणी राज्यों से संपर्क टूट जाएगा, जिससे फल-सब्जियों, दूध और राशन आदि की आपूर्ति में समस्या उत्पन्न हो जाएगी.

अर्द्धसैनिक बल को किया गया तैनात
गौरतलब है कि शनिवार को किसानों ने कई टोल प्लाजा को टोल मुक्त करा दिया, जबकि खंदौली में यमुना एक्सप्रेस-वे, आगरा-अलीगढ़ राजमार्ग पर पुलिस और किसानों के बीच तनातनी हो गई. पुलिस ने कई किसानों को हिरासत में ले लिया. टोल प्लाजा और राजमार्ग पर पुलिस और अर्द्धसैनिक बल को तैनात किया गया. किसान नेताओं को नजरबंद भी किया गया है.

किसानों की पुलिस के बीच हुई तकरार
किसान आंदोलन के 17वें दिन शनिवार दोपहर को भाकियू भानु गुट के सैकड़ों किसान आगरा-अलीगढ़ मार्ग स्थित बरौस टोल प्लाजा को बंद करने के लिए पहुंचे लेकिन यमुना एक्सप्रेस-वे के इंटरचेंज पर ही पुलिस ने किसानों को रोक दिया. इस पर किसानों की पुलिस से तकरार हो गई. किसानों के आंदोलन को देखते हुए आगरा में भी कड़ी सुरक्षा कर दी गई है. यमुना एक्सप्रेस-वे टोल प्लाजा पर खुद एसएसपी शुक्रवार से निगरानी रखे हुए हैं. आगरा-मथुरा हाइवे पर भी पुलिस का पहरा है. किसान नेताओं के आह्वान पर शनिवार को आगरा के किसान नेताओं ने इनर रिंग रोड रहनकलां टोल प्लाजा पर पहुंचकर टोल बैरियर हटाकर उसे टोल मुक्त कर दिया और टोल प्लाजा पर धरने पर बैठ गए.

इन किसान नेताओं पर हुई कार्रवाई
वहीं, किसान नेताओं के पीछे आती भीड़ को देखते हुए एसपी सिटी रोहन पी बौत्रे, एडीएम एत्मादपुर अर्चना सिंह ने किसान नेता श्याम सिंह चाहर, सोमवीर यादव, मुकेश पाठक, लाखन सिंह त्यागी को हिरासत में ले लिया. उधर, थाना डौकी क्षेत्र में पुलिस ने भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष राजवीर लवानियां को घर पर ही नजरबंद कर दिया गया. वहीं छावनी क्षेत्र में सपा नेता ममता टपलू को पुलिस ने घर पर ही नजर बंद कर दिया. इनके अलावा अन्य राजनैतिक दलों के पार्टी नेताओं को भी नजरबंद किया गया.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *