Sweden के इस शहर में रात होते ही Purple हो जाता है आसमान, यह है वजह

स्वीडन (Sweden) के ट्रेलीबोर्ग में एक टमाटर फार्म में एनर्जी एफिशिएंट लाइटिंग सिस्टम लगाया गया है, जिसके चलते वहां रात होते ही आसमान का रंग बैंगनी हो जाता है. लोगों के विरोध को देखते हुए फिलहाल कुछ घंटों के लिए लाइट बंद की जाने लगी हैं.

स्टॉकहोम: अंधेरा छाने के बाद जब सबकुछ काला-काला नजर आता है, स्वीडन (Sweden) का आसमान अचानक से बैंगनी हो गया. लोग काफी देर तक समझ नहीं पाए कि आखिर हुआ क्या है. हालांकि, अब लोगों को इसके पीछे की वजह पता चल गई है.

राज खुला, तो ली राहत की सांस

स्वीडन (Sweden) के दक्षिणी तट पर ट्रेलीबोर्ग में रात होते ही आसमान काले से बैंगनी (Purple) हो गया. शुरुआत में लोग इस घटना को लेकर काफी डर गए. फिर बाद में जब उन्हें इसकी वजह पता चली तो उन्होंने राहत की सांस ली. दरअसल, पास के एक टमाटर फार्म (Tomato Farm) में एनर्जी एफिशिएंट लाइटिंग सिस्टम लगाया गया है, जहां से बैंगनी रंग की रोशनी निकलती है और आसमान का रंग भी बदल जाता है.

LED लाइट बनीं परेशानी

स्थानीय मीडिया के मुताबिक, ट्रेलीबोर्ग से 10 मिनट की दूरी पर गिस्लोव स्थित टमाटर फार्म में एनर्जी-सेविंग LED लाइट सिस्टम लगाया है, जिसका रंग बैंगनी है. कहा जाता है कि पेड़ों पर गिरती रोशनी उनकी सेहत के लिए अच्छी होती है. इसी उद्देश्य से ये तेज रोशनी वालीं LED लाइट लगाई गई हैं. हालांकि, फार्म मालिक को नहीं पता था कि उसकी यह कोशिश लोगों की परेशानी का सबब बन जाएगी.

 

Complaints के बाद उठाया कदम
लाइट की रोशनी इतनी तेज है कि अंधेरा होते ही आसमान बैंगनी हो जाता है. लोगों ने इस संबंध में शिकायत भी की है, जिसके मद्देनजर 5 से 11 बजे के बीच लाइट बंद करना शुरू किया गया है. ट्रेलीबोर्ग के पर्यावरण प्रबंधक माइकल नोरेन का कहना है कि फिलहाल कुछ घंटों के लिए लाइट बंद की जा रही है, लेकिन जल्द ही कोई दूसरी ऐसी योजना बनाई जाएगी कि लाइट भी जलती रहीं और किसी को परेशानी भी न हो. वहीं, टमाटर के फार्म के मालिक अल्फ्रेड पेडरसन ऐंड सन का कहना है कि बिजली बचाने के लिए ऐसा किया जा रहा था. उनका इरादा किसी को परेशान करने का नहीं है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *